परीक्षा प्रश्न पत्र लेकर जाते समय कार पलटने से 2 शिक्षको की हुई मौत , छात्र ने परीक्षा को छोड़ पहुँचा जान बचाने

परीक्षा प्रश्न पत्र लेकर जाते समय कार पलटने से 2 शिक्षको की हुई मौत , छात्र ने परीक्षा को छोड़ पहुँचा जान बचाने
बैतूल- स्कूल में परीक्षा के पेपर लेकर जा रहे शिक्षकों की कार रास्ते में पलट गई जिसमे दो शिक्षकों की मौत हो गई एवं दो शिक्षक गम्भीर रूप से घायल हो गए है घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है बताया जा रहा है कि दोनों घायलों को नागपुर रेफर किया जाएगा घटना की सूचना मिलते ही पुलिस अधीक्षक डीएस भदौरिया एवं डीपीसी सुबोध शर्मा और एडिशनल एसपी और एसडीओपी विजय पुंज जिला अस्पताल पँहुचे और घायलों के हाल चाल जानें/ घटना सुबह 8 बजे के करीब की है आज कक्षा बारहवीं के अर्थ शास्त्र का अंतिम पेपर था स्कूल में परीक्षा दिलाने के लिए दामजीपुरा से मोहटा शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यायल प्रश्न पत्र लेकर परीक्षा केंद्र अध्यक्ष मदन मालवीय एवं सहायक केंद्र अध्यक्ष चंद्रशेखर रावन्दे और दो शिक्षक रामप्रसाद उइके ,नारायण सोनी कार से आ रहे थे परीक्षा केंद्र मोहटा से डेढ़ किलोमीटर पहले एक मोड़ पर कार का संतुलन बिगड़ा और पलट गई जिसमें मौके पर सहायक केंद्राध्यक्ष चंद्रशेखर रावन्दे की मौत हो गई और रामप्रसाद उइके की अस्पताल लाते समय रास्ते मे मौत हो गई और मदन मालवे ,नारायण सोनी को गम्भीर चोट आई है जिनका जिला अस्पताल में इलाज जारी है| पूरी घटना को परीक्षा देने जा रहे छात्र ने देखा और घटना की सूचना स्कूल में दी जब दुर्घटना हुई उसी समय मोहटा स्कूल का ही एक छात्र पुनीत पिता संजय ने देखी कार जैसे ही पलटी तो छात्र पुनीत दौड़कर कार के पास पँहुचा और सभी शिक्षकों को कार से बाहर निकाला और घायलों के सिर को कपड़े बंधा एवं मोबाइल से स्कूल में घटना की जानकारी दी इतना ही पुनीत अपना पेपर छोड़कर शिक्षकों की जान बचाने की कोशिश करता रहा| डीपीसी से बनाई परीक्षा केंद्र में पेपर पंहुचाने की व्यवस्था दुर्घटना की सूचना डीपीसी सुबोध शर्मा को लगी तो उन्होंने तुरंत एक टीम बनवाई दामजीपुरा भैसदेही से टीम मौके पर पँहुची और पेपर परीक्षा केंद्र पंहुचाऐ जिससे समय पर परीक्षा शुरू हुई और छात्र छात्राओं ने अपने पेपर दिए शिक्षकों की मदद करने वाले छात्र पुनीत ने उत्कृष्ट विद्यायल में दी परीक्षा डीपीसी सुबोध शर्मा ने बताया कि कार दुर्घटना में सभी शिक्षकों की मदद करने वाला छात्र पुनीत अपने परीक्षा केंद्र पर परीक्षा नही दे पाया था पुनीत भी शिक्षकों के साथ बैतूल आया था इसलिए उससे उत्क्रष्ट विद्यायल बैतूल में परीक्षा दिलवाई गई साथ ही उसे थोड़ा अधिक समय भी दिया गया ताकि वह अपना पेपर पूरा कर सके|