जिला आरटीओ के गस्त अधिकारी को तनख्वा पड़ी कम , बीच रोड़ पर वसूली कर चला रहे है काम । वर्दी पर नही थी कोई नेमप्लेट ।

बैतुल : क्या करे लिखना पड़ रहा हैं और प्रशासन ने भी ट्रेन्ड बना लिया है आगे जाना हो तो जेब गर्म करनी होगी । आज कल रोड़ पर अक्सर एक सफेद कलर की टाटा सोमो जिस पर पीछे कांच पर लाल कलर से मध्यप्रदेश शासन और नीचे बड़े शब्दो मे RTO लिखा साथ ही सरकारी नम्बर लास्ट में AA 3000 लिखा है । अंदर में जो अधिकारी बैठे हैं उनकी वर्दी पर नेमप्लेट तक नही और बिना नेमप्लेट के बिना अपनी डिजिग्नेसन के बीच सड़क पर आम जन के माल वाहक ट्रकों से अवैध वशूली करते दिखाई दे रहे हैं । जिस माल वाहन से वशूली की गई उसका नम्बर था MP09 HH 5973 । आरटीओ गाड़ी में जो अधिकारी विराजमान थे वे खुद गाड़ी में बैठकर रौब बना कर यह वशूली कार्यक्रम कर रहे थे जब हम अपने कैमरे के साथ वह पहुँचे तो अंदर जो अधिकारी था उसकी खाकी वर्दी पर किसी तरह की नेमप्लेट थी न कोई आधिकारिक तौर पर रशीद कट्टा न कोई चैकिंग दस्तावेज थे ।इसमें होता यह है कि बिना वर्दी का ड्राइवर नीचे उतरकर ट्रक ड्राइवर से बात करता हैं , सफेद आरटीओ लिखी गाड़ी के पास उस ट्रक ड्राइवर को पहुँचता साथ ही किसी के नजर न आ पाए इस तरह से वशुली के पैसे लेकर उसको आगे की ओर जाने की बोल दिया जाता हैं पूछने पर कोई जवाब न कोई रसीद देता हैं । पर नियम यह कहता हैं कि इस तरह की कोई भी चेकिंग और चलानी कार्यवाही पर स्थाई तौर पर गाड़ी खड़ी कर चालान काट कर रसीद दे दी जाती है । जब हमने इस पर उस ट्रक ड्राइवर से बात की जिसमे बकरियां लोड होकर हैदराबाद जा रही थी , उस ड्राइवर से पूछने पर बताया कि बिना किसी बात के हमसे एक हजार रुपये लेकर आगे जाने को कहा , मजबूरन हमे पैसे देने पड़े आरटीओ जो ठहरे । पुनः जब हमने अपनी गाड़ी आगे बढ़ाई और पुनः जब वही आरटीओ लिखी गाड़ी वापस उसी तरह के बकरियां से भरे ट्रक का पीछा कर फिर वशूली की गई जिसे हमने जितना हो सका वीडियो में रिकॉर्ड किया । वीडियो को निरन्तर रखते हुए जब उस गाड़ी में बैठे अधिकारी से बात की तो उन्होंने इस बात से साफ इंकार कर दिया और बिना देरी किये बैतुल की ओर फर्राटे भर लिए । यब सारा मामला 2 /9/2020 साम 6 से 7 के बीच का है जो खेड़ी से बैतुल के बीच इसतरह का गोरखधंधा जिला आरटीओ के गस्त अधिकारी के द्वारा अवैध वशूली की जा रही थी । इस तरह से जो वशूली हो रही हैं इससे यह अनुमान लगा सकते सरकार ने इन अधिकारियों की तनख्वाह कम कर दी है जिसकी पूर्ति के लिए यह अधिकार इस तरह से काम कर रहे है । हमारा काम है सही जानकारी आप तक पहुँचाना फिर आप इस विषय मे क्या अपनी राय रखते हैं कमेंट्स लिखकर हमे अवगत करे । सही और सटीक खबरों के लिये हमारे nwes चैनल हिन्दुस्तान बीबीसी को सर्च करे और खबरो का आनंद ले ।