सांसद आदर्श गांव की पीपरी नदी में होता है रेत का अवैध कारोबार

सांसद आदर्श गांव की पीपरी नदी में होता है रेत का अवैध कारोबार
सांसद आदर्श गांव की पीपरी नदी में होता है रेत का अवैध कारोबार

सांसद आदर्श गांव की पीपरी नदी में होती है दिन भर रेत की छनाई बाँसपुर से चलते है रात भर रेत के डम्पर

घोड़ाडोंगरी

 बैतूल जिले की घोड़ाडोंगरी तहसील हमेशा ही चर्चा में छाई रहती है । घोड़ाडोंगरी क्षेत्र में रेत के भंडार के कारण भी जिले के बड़े-बड़े ठेकेदारों, नेताओं की नजरें घोड़ाडोंगरी क्षेत्र में रेत के भंडार पर टिकी रहती है। जिसके कारण शासन के लाख प्रतिबंधों के बावजूद दिनदहाड़े और रात भर रेत का अवैध कारोबार चलता रहता है । जिला खनिज अधिकारी शशांक शुक्ला का कहना है कि इन दिनों रेत के उत्खनन और परिवहन पर पूर्णतया प्रतिबंध है। कुछ जागरूक लोगों ने सांसद आदर्श गांव कान्हावाडी के पिपरी गांव की नदी की फोटो खींचकर हमें भेज दी और बताया कि यहां कि पीपरी नदी में दिन रात भर रेत का काम चलता रहता है । जो घोड़ाडोंगरी मुख्यालय से केवल 1 किलोमीटर दूर है। उसके बाद भी यह अवैध काम कई महीनों से चल रहा है । ट्रेक्टर वाले केवल ₹500 इन मजदूरों को देते हैं और घोड़ाडोंगरी में लेकर हजारों रुपयों में रेत बेच देते हैं । मॉडल शा0 स्कूल पीपरी , नक्षत्र वाटिका के पास से 50 से ज्यादा दिन भर निकलते है ट्रेक्टर। प्राचार्य ने रोड खराब होने को लेकर की थी स्कूल का निरीक्षण करने आये सांसद और अधिकारियों से शिकायत। मुख्यमंत्री की नक्षत्र वाटिका को लेकर वीडियो कांफ्रेंसिंग के दिन सांसद और जिले के अधिकारी मॉडल स्कूल का निरीक्षण करने गये थे। जिन्हें स्कूल के बच्चों, प्राचार्य ने बताया था कि अवैध रेत ढुलाई के ट्रेक्टर रोड खराब कर रहे है। स्कूल परिसर से दिन भर ट्रैक्टरों के आने जाने से कभी भी बड़ी दुर्घटना हो सकती है। लेकिन आज तक रोक नही लगी। बासपुर क्षेत्र के लोगों ने बताया कि बासपुर क्षेत्र में शाम ढलते ही रेत का अवैध कारोबार शुरू हो जाता है। रेत का अवैध कारोबार में लगे इन लोगो पर जिले के बड़े बड़े नेताओं, अधिकारी, ठेकेदारों का हाथ रहता है। अधिकारियों की गाड़ी निकलते ही रेत के अवैध धंधे में लगे लोगो तक सूचनाएं आ जाती है ये अपना बोरिया बिस्तर समेटकर रफूचक्कर हो जाते है। ग्रामीण बताते है कि रेत के डम्पर इतनी तेजी से चलते हैं की आम जनता को सड़क के आसपास खड़े रहने में ,चलने में ही डर लगता है । रेत के इन डंपर ने बासपुर में पंचायत की बाउंड्री वाल और बिजली के खंभे तक तोड़ चुके हैं । उसके बावजूद इनके ऊपर कोई कार्यवाही नहीं की गई। बासपुर में वन विभाग के क्षेत्र अयोध्या के नाम से जाना जाता है डूलारा मार्ग की तवा नदी वहां से भी दिन और रात रेत का अवैध खनन हो रहा है । शिवसागर , मालवर, भडनगा, डूलारा क्षेत्र की तवा नदी में रेत का अवैध उत्खनन शासन के प्रतिबंधों के बावजूद बदस्तूर जारी है।